Hostel life -पटना के विद्यार्थियों का जीवन

hostle life

हैलो, दोस्तों स्वागत है आपका मेरे ब्लॉग ‘अमेजिंग शॉर्ट स्टोरीज’ पर! आज एक बार फिर आपके सामने एक नए सामाजिक तथ्य “hostel life” को पेश कर रहा हूं! और आज का विषय विद्यार्थियों से जुड़ा हुआ महत्वपूर्ण विषय है! किस तरह विभिन्न जिले से आए विद्यार्थी पटना के अलग अलग हिस्सों में रहकर सरकारी नौकरी की तैयारी में लगे हुए हैं!

कुछ हिस्से तो ऐसे हैं कि सुबह 5 बजे से रात के 10 के बीच कभी भी रास्ते पर निकल पढ़ो तो सिर्फ विद्यार्थी ही विद्यार्थी चलते हुए दिखेंगे! सरकारी नौकरी पाने की होड़ में सब अपने मंज़िल कि ओर इस कदर चलते दिखेंगे कि मानो अगले दिन सबका सिलेक्शन होना तय है! लेकिन वास्तविकता तब पता चलती है, जब यही मंज़िल की और भागने वाले विद्यार्थी की हॉस्टल के जीवन को देखा जाता है!

hostel life
hostel life of a student

hostel life

पटना की एक विशेष जगह की बात की जाए! जैसे कि बाज़ार समिति और मुसल्लापुर हाट से लेकर मछुआ टोली तक इतने विद्यार्थी भरे पड़े हैं जिन्होंने कई लोगों को रोजगार दिया है! यहां हर एक घर में औसत 20 विद्यार्थी तो जरूर दिखेंगे! जिनकी वजह से हर घर वाले की मुख्य कमाई का जरिया इन विद्यार्थियों द्वारा दिए गए घर भाड़ा से है! और बहुत सारे मकानों में इतने छोटे-छोटे रूम हैं कि एक मकान में २०० विद्यार्थी की पूर्ति तो हो ही जाती है!

hostel life of a student

खैर ये मजबूरी रहती है कि इन छोटे छोटे रूम में भी एक विद्यार्थियों को 2200 से 2500 रूपए के बीच किराया देने पड़ते हैं! खैर कुछ विद्यार्थी आपको रेलवे की तो कोई एसएससी की, कोई बैंक तो कोई बीपीएससी की तैयारी करते हुए दिखेंगे! बहुत सारे ऐसे भी मिलेंगे जो हर जगह अपनी किस्मत आजमाना चाहेंगे, जैसे कि कोई भी एसएससी की वैकेंसी निकले तो उसकी तैयारी में लग जाएंगे!अगर इसमें पास न कर सके तो फिर रेलवे के किसी भी पोस्ट की तैयारी में लग जाएंगे! अगर इसमें भी पास न कर सके तो कोई भी राज्य की वैकेंसी निकले तो उसके लिए भी अप्लाई कर देंगे! यानि कि कहीं भी मिले मौका तो चौका लगाने की होड़ में लग जाएंगे!

boys hostel in patna

boys hostel in patna

60 % तैयारी करने वाले लोगों का यही हाल होता है! जिसकी वजह से इन लोगों को पटना में 5-10 साल गुजारना पड़ता है! लेकिन कुछ ऐसे भी विद्यार्थी हैं जो सिर्फ एक या दो साल के लिए पटना आते हैं ! इसी दौरान वे अपने को सरकारी नौकरी पाने में सक्षम हो जाते हैं, जबकि कई सारे विद्यार्थी पटना में दिन रात प्राय सोते हुए दिखेंगे ! और ज्यादातर रेलवे की तैयारी करने वाले की संख्या इनमे देखने को मिलती है! पटना के विद्यार्थियों की खास बात यह है की वे खाना बनाने में काफी माफिर हैं ! चिकन या मछली तो ये लोग इतनी जबरदस्त बनाएंगे कि एक हॉस्टल से दूसरे हॉस्टल में खुशबू आना स्वाभाविक है।

पटना की दुकानदारों की कमाई

इन विद्यार्थियों की भीड़ की वजह से फिल्म डाउनलोड करने वाले दुकानों की भी अच्छी कमाई हो जाती है ! क्यूँकि बिहार और झारखण्ड के प्राय विद्यार्थी साउथ की फिल्में देखने में काफी माहिर होते हैं! बिहार में भोजपुरी फिल्मों से भी ज्यादा डिमांड साउथ की फिल्मे की होती है! रवि तेजा, N.T.R , राम चरण और तमिल एक्टर विजय की फिल्मे तो खूब मोबाइल में भरा-भरा कर देखेंगे ! और ऐसे एक्टर की फिल्में तो आप जानते ही होंगे- गुण्डे हवा में उड़ते दिखते हैं! ये भी एक मुख्य कारण है! जिसकी वजह से कई विद्यार्थी पटना के हॉस्टल में काफी लम्बे समय तक जीवन बिताते हैं !

हैलो दोस्तों, ये थी मेरी छोटी सी शार्ट स्टोरी! जब मैं पटना के हॉस्टल में कुछ समय के लिए था! और तरह तरह लोगों से बातचीत करने के दौरान मैंने वहां के विभिन्न जिलों से आये विद्यार्थिओं के अनुभव को महसूस किया। अगर आपको मेरे लिखे हुए आर्टिकल अच्छे लगे या बुरे कमेंट कर अपनी राय दे!

भारत माता की जय

Related Post

9 Replies to “Hostel life -पटना के विद्यार्थियों का जीवन”

  1. Good day,

    I am reaching out to you based on a request from a profiled client who is looking for a potential investment opportunity within your scope of business .

    Details of investment proposal will be sent out to you on reading back from you as we deem it necessary to seek for your consent prior to any formal exchange of material information relating to the Subject matter .

    I look forward to your earliest response , please do contact me directly only via my private email address stated below .

    Kind Regards,

    Anthony Russell
    Managing Partner
    Tel Line: +447440934362
    Email : anthonyrussell@deximinvestmentsolutionsukltd.com

  2. I am curious to find out what blog platform you have been working with? I’m having some minor security issues with my latest website and I’d like to find something more risk-free. Do you have any recommendations?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *