barish kab hogi?? बारिश का मौसम

barish kab hogi

बारिश! बारिश बारिश! न जाने कब ये बारिश होगी? barish kab hogi इस बारिश के मौसम में आखिर ये बारिश क्यूं नहीं हो रही है? ये बातें हर किसी के जुबां पे थी, जब इस साल आसमान की तरफ नजर फैलाए लोग बारिश की बूंदों का इंतजार कर रहे थे। किसान अपनी फसलों की अच्छी पैदावार के लिए भगवान से बारिश की दुआ कर रहे थे। लेकिन कम्बख़त ये बारिश तो आसमान से टपकने का नाम ही नहीं ले रही थी। धीरे धीरे लोगों ने उम्मीदें छोड़ी।

barish kab hogi ऐसे तो ये बारिश का मौसम बड़ा ही रोमांटिक कहा जाता है! खास कर के प्रेम में पड़े आशिकों से पूछो तो वो इसकी पूरी परिभाषा ही बता देंगे! वास्तव में ये बारिश के पल काफी सुहाने लगते हैं, मन में रोमांटिक अंदाज पनपने लगते हैं, जब कोई सुन्दर सी लड़की इन बारिशों में भींगती हुई दिखती है। भीगा बदन, बिखरे बाल और भीगे कपड़ों का तीखा अंदाज़ वाकई इस बारिश के मौसम के हसीन पल होते हैं। लेकिन क्या अगर यही बारिश तूफ़ानी अंदाज़ में बरसने लगे?? यही बारिश लगातार अपना विस्फोटक तेवर दिखाते रहे?? तब क्या यही बारिश के पल लोगों के लिए खास होंगे???

barish kab aayegi

barish kab aayegi सितंबर का आखिरी महीना चल रहा था! तभी शंकर भगवान ने अपनी तीसरी आंखें खोली! और नारद मुनि को आदेश दिए नल चलाने को!बारिश की शुरुआत हुई, और ये इस कदर हुई कि हर तरफ कोहराम सा मच गया! लगातार 7 दिन तक बारिश ने जो अपना क़यामत दिखाया! लोग अपने ही घर में कैदी बनकर जीवन बिताने लगे! barish kab hogi

लगातार 48 घंटे की बुंदा बूंदी बारिश ने तो लोगों को तड़प तड़प कर जीने का एहसास कराया। वहीं भारी बारिश ने तो कुछ शहरों की पूरी तरह से वाट लगा दी। कई सारे गाँव में बाढ़ ने दस्तक दी। कई घर डूब गए। खबरों से पता चला कि पूरा पटना डूब गया है। हर जगह पानी ही पानी और पानी में फैली गंदी नाली। कुछ लोग तो वहां से पलायन होने को मजबुर हो गए। और कुछ लोग अपने अपने मकानों में इलेक्ट्रिसिटी कटवा कर रहने लगे। क्यूंकि कब ये पानी और बिजली का मिश्रण उनकी जान लेले कोई भरोसा नहीं।

पटना की बारिश

barish kab aayega

बिहार की राजधानी कहलाने वाली पटना, जहाँ होती है बड़ी-बड़ी दुर्घटना! और इस बरसात ने तो पटना की ऐसी की दुर्घटना कि पुरे भारत में हो गयी इसकी चर्चा! barish kab band hogi हालांकि की इससे भी तेज बारिश होती है अन्य राज्यों में लेकिन वहाँ की स्थिति में काबू पा लिया जाता है। भारी मात्रा में बरसात होती है मुंबई में लेकिन अगले ही दिन पानी निकालने का प्रबंध कर लिया जाता है। लेकिन पटना की बात ही जुदा है, यहाँ जब तक जनता 10 दिन रास्तें और गलियों में इन सड़ी हुई पानी में न गुजारे तब तक सरकार को कहां होश रहती है।

One Reply to “barish kab hogi?? बारिश का मौसम”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *